यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत।अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्॥ भावार्थ : श्री कृष्ण कहते हैं की जब जब […]